शेर.. शायरी.. गीत..

मेरा संग्रह.. कुछ नया-कुछ पुराना..

जीना तेरे बिना..

 tears_1.jpg

जीना.. तेरे बिना जीना.. मौत लगे.. हम तो जिये तेरे बिन..
आजा अब तो आजा, तू कहीं से.. ये इल्तजा ले तू सुन..
तेरे बिना जीना कुछ भी नहीं..

दिल मेरा हर जगह.. बस तुझे ढूंढें यार..
झील, पर्वत, हवायें हैं मेरे गवाह..
शामें हों या सुबह.. हम तुझे ढूढें यार..
आते-जाते ये मौसम हैं सारे गवाह..
जरा बता रहे.. तेरे बिना जीना कुछ भी नहीं..
जीना.. तेरे बिना जीना.. मौत लगे.. हम क्यूं जियें तेरे बिन..

ये मेहफ़िल, मस्तियां सब तेरे बिन उदास..
सिर्फ़ तन्हाइयां हैं.. जायें जहां..
हां ये शहर, बस्तियां सब तेरे बिन उदास..
सिर्फ़ वीरानियां हैं.. जायें जहां..
जरा बता रहे.. तेरे बिना जीना कुछ भी नहीं..
जीना.. तेरे बिना जीना.. मौत लगे.. हम क्यूं जियें तेरे बिन..

दिल मेरा पागल याद में तेरी.. खोया रहे हर दम..
बिन तेरे जीना है नहीं आसां, ना है मुम्किन मेरा मरना..
जरा बता रहे.. तेरे बिना जीना कुछ भी नहीं..
जीना.. तेरे बिना जीना.. मौत लगे.. हम तो जिये तेरे बिन..
आजा अब तो आजा तू कहीं से.. ये इल्तजा ले तू सुन..

जीना तेरे बिना..

Advertisements

मार्च 25, 2007 - Posted by | गीत, हिन्दी

12 टिप्पणियाँ »

  1. बढ़िया गीत ढूंढ कर लाये हो. 🙂

    टिप्पणी द्वारा समीर लाल | मार्च 25, 2007 | प्रतिक्रिया

  2. अच्‍छा विन्‍यास है। लिखते रहें।

    टिप्पणी द्वारा masijeevi | मार्च 26, 2007 | प्रतिक्रिया

  3. बहुत खूब्सूर्ती से िलखा है… ऐसे ही िलख्ते रिहये… 🙂

    टिप्पणी द्वारा Shikha | अप्रैल 4, 2007 | प्रतिक्रिया

  4. i need more

    टिप्पणी द्वारा nilesh | जून 13, 2007 | प्रतिक्रिया

  5. kya baat hi aap bahut accah likte hi aap bahut jaldi hi unnt shkar pj honge

    टिप्पणी द्वारा BABU | अक्टूबर 16, 2007 | प्रतिक्रिया

  6. kya baat hi aap bahut accah likte hi aap bahut jaldi hi unnt shkar pj honge

    टिप्पणी द्वारा BABU | अक्टूबर 16, 2007 | प्रतिक्रिया

  7. please this said only for rakesh singh pharswan
    and this is my massage for you

    टिप्पणी द्वारा rakesh | दिसम्बर 4, 2007 | प्रतिक्रिया

  8. आप सभी का शुक्रिया.. 🙂

    टिप्पणी द्वारा Raj Gaurav | दिसम्बर 6, 2007 | प्रतिक्रिया

  9. बढ़िया गीत ढूंढ कर लाये हो

    टिप्पणी द्वारा sheikh sallauddin | मार्च 24, 2009 | प्रतिक्रिया

  10. aap ki kavita ki har line ik ahsas hai jo kabila tarif hai

    टिप्पणी द्वारा Sanghpriy singh | अप्रैल 10, 2009 | प्रतिक्रिया

  11. GOOD GOOD GOOD GOOD

    टिप्पणी द्वारा narender sharma | मई 29, 2009 | प्रतिक्रिया

  12. […] जीना तेरे बिना.. […]

    पिंगबैक द्वारा Yaadein.. Tumse Khafa hai Hum | Muskan | जून 12, 2012 | प्रतिक्रिया


एक उत्तर दें

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / बदले )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / बदले )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / बदले )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / बदले )

Connecting to %s

%d bloggers like this: