शेर.. शायरी.. गीत..

मेरा संग्रह.. कुछ नया-कुछ पुराना..

क्यूं..

child-massage.jpg 

आंख से आंख मिला, बात बनाता क्यूं है..

तू अगर मुझसे खफ़ा है, तो छिपाता क्यूं है..??

गैर लगता है ना अपनों की तरह मिलता है..

तू ज़माने की तरह मुझको सताता क्यूं है..??

वक्त के साथ हालात बदल जाते हैं..

ये हकीकत है मगर, मुझको सुनाता क्यूं है..??

एक मुद्दत से जहां काफ़िले गुज़रे ही नहीं..

ऐसी राहों पे चिरागों को जलाता क्यूं है..??

— सयीद राही..

Advertisements

नवम्बर 22, 2006 - Posted by | शायरी, हिन्दी

1 टिप्पणी »

  1. sayeed sahab ko achchi shayari mubarakbaad. mai achchi shayari ka kadrdan hoo aur kuch tute-fute lafzo me kuch likh bhi leta hoo. aapki gazal ke sabhi sher daad ke kaabil hai.

    salim ”aman”

    टिप्पणी द्वारा salim ''aman'' | जून 25, 2007 | प्रतिक्रिया


एक उत्तर दें

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  बदले )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out /  बदले )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  बदले )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  बदले )

Connecting to %s

%d bloggers like this: