शेर.. शायरी.. गीत..

मेरा संग्रह.. कुछ नया-कुछ पुराना..

हिम्मत करने वालों की कभी हार नही होती..

 harivanshrai.jpg

लेहरों से डरकर नौका पार नहीं होती..

हिम्मत करने वालों की कभी हार नही होती..

नन्ही चींटीं जब दाना लेकर चढती है..

चढती दीवारों पर सो बार फ़िसलती है..

मनका विश्वास रगॊं मे साहस भरता है..

चढकर गिरना, गिरकर चढना ना अखरता है..

मेहनत उसकी बेकार हर बार नहीं होती..

हिम्मत करने वालों की कभी हार नही होती..

डुबकियां सिंधुमें गोताखोर लगाता है..

जा जा कर खाली हांथ लौटकर आता है..

मिलते ना सहज ही मोती गेहरे पानी में..

बढता दूना विश्वास इसी हैरानी में..

मुट्ठी उसकी खाली हर बार नहीं होती..

हिम्मत करने वालों की कभी हार नही होती..

असफ़लता एक चुनौती है.. स्वीकार करो..

क्या कमी रेह गयी देखो और सुधार करो..

जब तक ना सफ़ल हो नींद-चैन को त्यागो तुम..

संघर्षोंका मैदान छोड मत भागो तुम..

कुछ किये बिना ही जयजयकार नहीं होती..

हिम्मत करने वालों की कभी हार नही होती..

——————————————कवी श्रीयुत हरिवंश राय बच्चन..

Advertisements

सितम्बर 3, 2006 - Posted by | कविता

4 टिप्पणियाँ »

  1. hdfh

    टिप्पणी द्वारा tirtha raj bhatt | फ़रवरी 18, 2011 | प्रतिक्रिया

  2. मित्र

    बहुत बढ़िया…पांचवी पंक्ति मे:

    ‘इसी बातें किया ना करो.. ‘

    मे इसी को ऎसी कर लें:

    ‘ऎसी बातें किया ना करो..’

    शायद टंकण मे भूल हो गई है.

    टिप्पणी द्वारा tirtha raj bhatt | फ़रवरी 18, 2011 | प्रतिक्रिया

  3. lahron se dar kar nauka par nahi hoti kavita shri nirala ki hai

    टिप्पणी द्वारा aabha | दिसम्बर 5, 2011 | प्रतिक्रिया

  4. very nice

    टिप्पणी द्वारा teekooram | जून 8, 2013 | प्रतिक्रिया


एक उत्तर दें

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  बदले )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out /  बदले )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  बदले )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  बदले )

Connecting to %s

%d bloggers like this: