शेर.. शायरी.. गीत..

मेरा संग्रह.. कुछ नया-कुछ पुराना..

दोस्ती..

frnds.jpg

दोस्ती नाम नहीं सिर्फ़ दोस्तों के साथ रेहने का..
बल्की दोस्त ही जिन्दगी बन जाते हैं, दोस्ती में..

जरुरत नहीं पडती, दोस्तों की तस्वीर की.
देखो जो आईना तो दोस्त नज़र आते हैं, दोस्ती में..

येह तो बहाना है कि मिल नहीं पाये दोस्तों से आज..
दिल पे हाथ रखते ही एहसास उनके हो जाते हैं, दोस्ती में..

नाम की तो जरूरत ही नहीं पडती इस रिश्ते मे कभी..
पूछे नाम अपना ओर, दोस्तॊं का बताते हैं, दोस्ती में..

कौन केहता है कि दोस्त हो सकते हैं जुदा कभी..
दूर रेह्कर भी दोस्त, बिल्कुल करीब नज़र आते हैं, दोस्ती में..

सिर्फ़ भ्रम है कि दोस्त होते हैं अलग-अलग..
दर्द हो इनको ओर, आंसू उनके आते हैं , दोस्ती में..

माना इश्क है खुदा, प्यार करने वालों के लिये “अभी”
पर हम तो अपना सिर झुकाते हैं, दोस्ती में..

ओर एक ही दवा है गम की दुनिया में क्युकि..
भूल के सारे गम, दोस्तों के साथ मुस्कुराते हैं, दोस्ती में..

————————————————-अभिनव जैन..

अगस्त 24, 2006 - Posted by | कविता

40 टिप्पणियाँ »

  1. i also like to write poetry.
    but now i dnt have time to write such a thing.

    टिप्पणी by abhinav tyagi | अप्रैल 3, 2008 | प्रतिक्रिया

    • Dear Abhinav,

      There is always room at the top then how come you posess a talent for which many of us do want but cannot. It is disappointing one self by denying lack of time for pursuing your hobby?

      टिप्पणी by Goupal Rai | नवम्बर 17, 2009 | प्रतिक्रिया

  2. beautiful…plz post more on friendship….this is ultimate

    टिप्पणी by rakesh raina | मई 12, 2008 | प्रतिक्रिया

  3. ILOVE MA SUNITA SHA PAR KHATA HO APA

    टिप्पणी by dilip | अगस्त 11, 2008 | प्रतिक्रिया

  4. नाम की तो जरूरत ही नहीं पडती इस रिश्ते मे कभी..
    पूछे नाम अपना ओर, दोस्तॊं का बताते हैं, दोस्ती में..

    कौन केहता है कि दोस्त हो सकते हैं जुदा कभी..
    दूर रेह्कर भी दोस्त, बिल्कुल करीब नज़र आते हैं, दोस्ती में..

    सिर्फ़ भ्रम है कि दोस्त होते हैं अलग-अलग..
    दर्द हो इनको ओर, आंसू उनके आते हैं , दोस्ती में..

    टिप्पणी by Ramlla Singh | सितम्बर 9, 2008 | प्रतिक्रिया

  5. मैं भी लिखता हूं.. पर चिन्ता ना करें आपको ऐसा torture नहीं दूंगा मैं यहां पे.. इस ब्लोग पे चुने हुए अच्छे-अच्छे शेर.. शायरी.. या गीत.. लिखने के नेक इरादे से आप सभी का स्वागत करता हूं..

    टिप्पणी by Ramlla Singh | सितम्बर 9, 2008 | प्रतिक्रिया

  6. की…
    डार्लिंग चाय तो पी लो,
    जल्दी से रेडी हो जाओ,
    आप को ऑफिस भी है जाना…

    घरवाली भगवान का रुप ले कर आयी थी,
    दिल और दिमाग पर पूरी तरह छाई थी,
    सांस भी लेते थे तो नाम उसी का होता था,
    इक पल भी दूर जीना दुश्वार होता था…

    ५ साल बाद……..

    सुबह सुबह मैडम का चाय ले कर आना,
    टेबल पर रख कर जोर से चिल्लाना,
    आज ऑफिस जाओ तो मुन्ना को
    स्कूल छोड़ते हुए जाना…

    सुनो एक बार फिर वोही आवाज आयी,
    क्या बात है अभी तक छोड़ी नही चारपाई,
    अगर मुन्ना लेट हो गया तो देख लेना,
    मुन्ना की टीचर्स को फिर खुद ही संभाल लेना…

    ना जाने घरवाली कैसा रुप ले कर आयी थी,
    दिल और दिमाग पर काली घटा छाई थी,
    सांस भी लेते हैं तो उन्ही का ख़याल होता है,
    अब हर समय जेहन में एक ही सवाल होता है…

    क्या कभी वो दिन लौट के आएंगे,
    हम एक बार फिर कुंवारे हो जायेंगे….

    टिप्पणी by mahir tyagi | सितम्बर 23, 2008 | प्रतिक्रिया

  7. aap ne hamari dosti kabool ki uske liye
    …………………….thanks
    and aap ne abhi tak interodunction nahi diya
    humne aap ke kahne par aap ko poora introdunction diya

    ……………..please give me your intro.

    aur aise hi e-mail karte raho tabhi to dosti parvan chadhegi yaar

    टिप्पणी by mahir tyagi | सितम्बर 23, 2008 | प्रतिक्रिया

  8. hy kya khoob likha hai

    टिप्पणी by firoj | दिसम्बर 22, 2008 | प्रतिक्रिया

  9. when u look at me*`•.¸.♥♥
    ♥♥*`•.¸ .i feel i m fine*`•.¸.♥♥

    ♥♥*`•.¸ .when u call me
    *`•.¸.♥♥
    ♥♥*`•.¸. i feel i m good
    *`•.¸.♥♥

    ♥♥*`•.¸ .when u ask me
    *`•.¸.♥♥
    ♥♥*`•.¸ .i feel i m intelligent
    *`•.¸.♥♥

    ♥♥*`•.¸ .when u see me
    *`•.¸.♥♥
    ♥♥*`•.¸ .i feel i m beautiful
    *`•.¸.♥♥

    ♥♥*`•.¸ .when u give me smile
    *`•.¸.♥♥
    ♥♥*`•.¸ .i feel i m happy
    *`•.¸.♥♥

    ♥♥*`•.¸ .when u touch me
    *`•.¸.♥♥
    ♥♥*`•.¸ .i feel i m alive
    *`•.¸.♥♥

    ♥♥*`•.¸ .when u talk with me
    *`•.¸.♥♥
    ♥♥*`•.¸ .i feel i m someone Special
    *`•.¸.♥♥

    ♥♥*`•.¸ .and finally when u r not with me
    *`•.¸.♥♥
    ♥♥*`•.¸ .i feel i m NOTHING*`•.¸.♥♥

    टिप्पणी by rajeev pandey | जुलाई 30, 2009 | प्रतिक्रिया

  10. bahut achchha laga dosto ki filings jajne or likhane ke liye
    thanks

    टिप्पणी by dayashankar | अगस्त 16, 2009 | प्रतिक्रिया

  11. DOSTI INSAAN KI JARURAT HAI!
    DILO PER DOSTI KI HUKUMAT HAI!
    AAP KE PYARE KI VAJAH SE JINDA HOIN!
    VERNA KHUDA KO BHI HAMARI JARURAT HAI!

    टिप्पणी by NAVEEN | अगस्त 20, 2009 | प्रतिक्रिया

  12. phir na semtagi ager dosti bikher jayegi
    jindagi julph nahi jo phir se sanwer jayegi
    jo khusi de tumhe tham lo daman ushka
    jindagi roker nahi hansa ker gujer jayegi

    टिप्पणी by naveen singh | अगस्त 22, 2009 | प्रतिक्रिया

  13. u r nice
    kisi se itna vada na karo jisa tum nibha na sako kisi ko tum itna na cho jisa tum pa na sako, pyar kisi ka kaha pura hota hai, koya ki is ka phela word khud hi adhur hota hai.

    टिप्पणी by krishna sharma | अगस्त 27, 2009 | प्रतिक्रिया

  14. aap logon ki shari padh ker bahut hi accha lag main chah ta hoon ki aaplog isse bhi achchi shari likhen

    टिप्पणी by sabir hussain | अगस्त 31, 2009 | प्रतिक्रिया

  15. 81237

    टिप्पणी by sabir hussain | अगस्त 31, 2009 | प्रतिक्रिया

  16. EK LADKI THI DIWANI
    MOBILE LEKAR GUMTI THI
    NAZRE JUKAKAR SHRMAKE
    MOBILE PE KUCH KUCH KARTI THI
    JAB BHI MUJSE MILA KARTI
    TAB EK HI SAWAL KARTI THI
    YE CHALU KESE HOTA HAI………..

    टिप्पणी by rushikesh kagde | सितम्बर 4, 2009 | प्रतिक्रिया

  17. hi,
    deepika tum janha hbi raho muskaraate rahna
    tumhari yaad bahut aati hai agar c me dekhana to msg
    jaroor karna good bye bye god by gress;
    thank you
    m. k. rai
    a.c.s.t. coledge
    jabalpur

    टिप्पणी by manish rai | सितम्बर 4, 2009 | प्रतिक्रिया

  18. hello every body,
    I am also alone in my life, But i have a good friend in my life, who help me alwayas and distrub me, So very very thank for friendship and my friend
    S. Khan

    टिप्पणी by arun | सितम्बर 7, 2009 | प्रतिक्रिया

  19. kuch aisa khayal jo harek ki zindgi me aata hai
    sayad har kishi ko likh dena mumkin nahi hopata
    kosis ki hai aap ko apna sa lage bataega ye kabhi na kabhi
    zindgi me bhoole visre yad ate hai

    thanks

    टिप्पणी by shiv kumar dubey | सितम्बर 11, 2009 | प्रतिक्रिया

  20. dear sunil jaha vi raho khush rahna mere dost

    shiv kumar dubey
    sagar mp

    टिप्पणी by shiv kumar dubey | सितम्बर 11, 2009 | प्रतिक्रिया

  21. mat kar mere dost hasheno se pyar
    bo ankhon se var karti hai
    mene isi ankhon se dekha
    ki bo kitno se pyar karti hai

    thanks
    shiv kumar dubey
    +919702258074

    टिप्पणी by shiv kumar dubey | सितम्बर 11, 2009 | प्रतिक्रिया

  22. dear everivody
    (3)sawal aap ke liye
    (1) ek din ki zindgi mile to kya chahoge
    (2)agar mout samne ho to kya magoge
    (3)dost ur pyar me kya chahoge

    thanks
    shiv kumar dubey
    09702258074

    टिप्पणी by shiv kumar dubey | सितम्बर 11, 2009 | प्रतिक्रिया

  23. BADDE AASANY SE DIL LAGAAYE JATE HAI PAR BADE MUSHKIL SAY WAADE NIBHAYE JATE HAI. LE JATI HAI MOHOBAT UN RAAHO PAR JAHNA DIYE NAHI DIL JALAAYE JATE HAI.

    टिप्पणी by neeru jaipur | अक्टूबर 30, 2009 | प्रतिक्रिया

  24. but now i dnt have time to write such a thing

    टिप्पणी by DHIRENDRAKUMAR | नवम्बर 8, 2009 | प्रतिक्रिया

  25. इक पल भी दूर जीना दुश्वार होता था…

    ५ साल बाद……..

    सुबह सुबह मैडम का चाय ले कर आना,
    टेबल पर रख कर जोर से चिल्लाना,
    आज ऑफिस जाओ तो मुन्ना को
    स्कूल छोड़ते हुए जाना…

    सुनो एक बार फिर वोही आवाज आयी,
    क्या बात है अभी तक छोड़ी नही चारपाई,
    अगर मुन्ना लेट हो गया तो देख लेना,
    मुन्ना की टीचर्स को फिर खुद ही संभाल लेना…

    ना जाने घरवाली कैसा रुप ले कर आयी थी,
    दिल और दिमाग पर काली घटा छाई थी,
    सांस भी लेते हैं तो उन्ही का ख़याल होता है,
    अब हर समय जेहन में एक ही सवाल होता है…

    क्या कभी वो दिन लौट के आएंगे,

    टिप्पणी by vinaykumar | नवम्बर 11, 2009 | प्रतिक्रिया

  26. SUGRIV

    टिप्पणी by KADAM S.G.PATIL | नवम्बर 20, 2009 | प्रतिक्रिया

  27. डार्लिंग चाय तो पी लो,
    जल्दी से रेडी हो जाओ,
    आप को ऑफिस भी है जाना…

    घरवाली भगवान का रुप ले कर आयी थी,
    दिल और दिमाग पर पूरी तरह छाई थी,
    सांस भी लेते थे तो नाम उसी का होता था,
    इक पल भी दूर जीना दुश्वार होता था…

    ५ साल बाद……..

    सुबह सुबह मैडम का चाय ले कर आना,
    टेबल पर रख कर जोर से चिल्लाना,
    आज ऑफिस जाओ तो मुन्ना को
    स्कूल छोड़ते हुए जाना…

    सुनो एक बार फिर वोही आवाज आयी,
    क्या बात है अभी तक छोड़ी नही चारपाई,
    अगर मुन्ना लेट हो गया तो देख लेना,
    मुन्ना की टीचर्स को फिर खुद ही संभाल लेना…

    ना जाने घरवाली कैसा रुप ले कर आयी थी,
    दिल और दिमाग पर काली घटा छाई थी,
    सांस भी लेते हैं तो उन्ही का ख़याल होता है,
    अब हर समय जेहन में एक ही सवाल होता है…

    क्या कभी वो दिन लौट के आएंगे,
    हम एक बार फिर कुंवारे हो जायेंगे….

    टिप्पणी by maruti | जनवरी 17, 2010 | प्रतिक्रिया

  28. Niceeeeeeeeeeeee

    टिप्पणी by raj | अप्रैल 6, 2010 | प्रतिक्रिया

  29. niceeeee good yerrrrrrrrrrrrr

    टिप्पणी by raj | अप्रैल 6, 2010 | प्रतिक्रिया

  30. realy frndship means alot for us it is a need of every relation

    टिप्पणी by preety | अगस्त 22, 2010 | प्रतिक्रिया

  31. GOOD NIET

    टिप्पणी by SUNIL KOLI | जनवरी 19, 2011 | प्रतिक्रिया

  32. kuch aisa khayal jo harek ki zindgi me aata hai
    sayad har kishi ko likh dena mumkin nahi hopata
    kosis ki hai aap ko apna sa lage bataega ye kabhi na kabhi
    zindgi me bhoole visre yad ate hai

    thanks

    टिप्पणी by eknath | जनवरी 22, 2011 | प्रतिक्रिया

  33. सुबह सुबह मैडम का चाय ले कर आना,
    टेबल पर रख कर जोर से चिल्लाना,
    आज ऑफिस जाओ तो मुन्ना को
    स्कूल छोड़ते हुए जाना…

    सुनो एक बार फिर वोही आवाज आयी,
    क्या बात है अभी तक छोड़ी नही चारपाई,
    अगर मुन्ना लेट हो गया तो देख लेना,
    मुन्ना की टीचर्स को फिर खुद ही संभाल लेना…

    ना जाने घरवाली कैसा रुप ले कर आयी थी,
    दिल और दिमाग पर काली घटा छाई थी,
    सांस भी लेते हैं तो उन्ही का ख़याल होता है,
    अब हर समय जेहन में एक ही सवाल होता है…

    क्या कभी वो दिन लौट के आएंगे,

    Comment by vinaykumar | नवम्बर 11, 2009 | Reply

    SUGRIV

    Comment by KADAM S.G.PATIL | नवम्बर 20, 2009 | Reply

    डार्लिंग चाय तो पी लो,
    जल्दी से रेडी हो जाओ,
    आप को ऑफिस भी है जाना…

    घरवाली भगवान का रुप ले कर आयी थी,
    दिल और दिमाग पर पूरी तरह छाई थी,
    सांस भी लेते थे तो नाम उसी का होता था,
    इक पल भी दूर जीना दुश्वार होता था…

    ५ साल बाद……..

    सुबह सुबह मैडम का चाय ले कर आना,
    टेबल पर रख कर जोर से चिल्लाना,
    आज ऑफिस जाओ तो मुन्ना को
    स्कूल छोड़ते हुए जाना…

    सुनो एक बार फिर वोही आवाज आयी,
    क्या बात है अभी तक छोड़ी नही चारपाई,
    अगर मुन्ना लेट हो गया तो देख लेना,
    मुन्ना की टीचर्स को फिर खुद ही संभाल लेना…

    ना जाने घरवाली कैसा रुप ले कर आयी थी,
    दिल और दिमाग पर काली घटा छाई थी,
    सांस भी लेते हैं तो उन्ही का ख़याल होता है,
    अब हर समय जेहन में एक ही सवाल होता है…

    क्या कभी वो दिन लौट के आएंगे,
    हम एक बार फिर कुंवारे हो जायेंगे….

    टिप्पणी by eknath | जनवरी 22, 2011 | प्रतिक्रिया

  34. EK LADKI THI DIWANI
    MOBILE LEKAR GUMTI THI
    NAZRE JUKAKAR SHRMAKE
    MOBILE PE KUCH KUCH KARTI THI
    JAB BHI MUJSE MILA KARTI
    TAB EK HI SAWAL KARTI THI
    YE CHALU KESE HOTA HAI………..

    टिप्पणी by eknath | जनवरी 22, 2011 | प्रतिक्रिया

  35. bahut bahut aacha laga dosti ke nap pe yah likh
    aati sundar
    waw

    टिप्पणी by vidhya | अगस्त 18, 2011 | प्रतिक्रिया

  36. bahut yaad aate dost kaminey…hr wakt hr pal

    टिप्पणी by Raj Isharwal | अक्टूबर 22, 2011 | प्रतिक्रिया


एक उत्तर दें

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / बदले )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / बदले )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / बदले )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / बदले )

Connecting to %s

Follow

Get every new post delivered to your Inbox.

Join 47 other followers

%d bloggers like this: