शेर.. शायरी.. गीत..

मेरा संग्रह.. कुछ नया-कुछ पुराना..

भीगी-भीगी सी हैं..

 rain-drops.jpg

भीगी-भीगी सी हैं, रातें भीगी-भीगी, यादें भीगी-भीगी, बातें भीगी-भीगी.. आखों मे कैसी नमी है..

सपनॊं का साया, पलकों पे आया, पल में हंसाया, पल में रुलाया.. फ़िरभी ये कैसी कमी है..

आधी-आधी जागीं, आधी-आधी सोयीं, आंखें तेरी ये लगता है रोयीं.. ले करके नाम हमारा..

रूठा-रूठा रब, छूटा-छूटा सब, टूटा-टूटा दिल, तेरे बिना अब.. कैसे हो जीना गवरा..

ना जाने कोई.. कैसी है ये ज़िंदगानी.. ज़िंदगानी..
हमारी अधूरी कहानी..

——————फ़िल्म: गेंगस्टर. इसे “सुनें” / “देखें

Advertisements

अगस्त 17, 2006 - Posted by | गीत

अभी तक कोई टिप्पणी नहीं ।

एक उत्तर दें

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  बदले )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out /  बदले )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  बदले )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  बदले )

Connecting to %s

%d bloggers like this: