शेर.. शायरी.. गीत..

मेरा संग्रह.. कुछ नया-कुछ पुराना..

अगर तुम मिलने आ जाओ..

praying_boy 

तमन्ना फ़िर मचल जाये.. अगर तुम मिलने आ जाओ..

येह मौसम ही बदल जाये.. अगर तुम मिलने आ जाओ..

मुझे गम है.. कि मैने ज़िन्दगी मे कुछ नहीं पाया..

येह गम दिल से निकल जाये.. अगर तुम मिलने आ जाओ..

येह दुनिया भर के झगडे.. घर के किस्से.. काम की बातें..

बला हर एक टल जाये.. अगर तुम मिलने आ जाओ..

येह मौसम ही बदल जाये.. अगर तुम मिलने आ जाओ..

तमन्ना फ़िर मचल जाये.. अगर तुम मिलने आ जाओ..

नहीं मिलते हो मुझसे तुम तो सब हमदर्द हैं मेरे..

ज़माना मुझसे जल जाये.. अगर तुम मिलने आ जाओ.. 

तमन्ना फ़िर मचल जाये.. अगर तुम मिलने आ जाओ..

येह मौसम ही बदल जाये.. अगर तुम मिलने आ जाओ..

तमन्ना फ़िर मचल जाये.. अगर तुम मिलने आ जाओ..

अगर तुम मिलने आ जाओ.. अगर तुम मिलने आ जाओ..

—————————————————————————-जावेद अख्तर..

Album :- “सोज़” जगजीत सिंह..

“सुनें” / “देखें

“Download करें” 

Advertisements

अगस्त 11, 2006 - Posted by | गज़ल

अभी तक कोई टिप्पणी नहीं ।

एक उत्तर दें

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  बदले )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out /  बदले )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  बदले )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  बदले )

Connecting to %s

%d bloggers like this: